स्वागत


“स्वास्थ्य पूरी शारीरिक , मानसिक और सामाजिक भलाई और न केवल रोग या दुर्बलता के अभाव का एक अवस्था है।” —————– WHO


अपने स्वास्थ्य के अपने इष्टतम अवस्था हासिल करने के लिए। प्राकृतिक और व्यक्तिगत स्वास्थ्य के समाधान के लिए मुझे आज ही संपर्क करें।

हमारे टेलीमेडिसिन सेवा के माध्यम से आपके स्वास्थ्य जरूरतों की पहचान करके आपके दरवाजे पर हर्बल दवाओं और उत्पादों को प्रदान करते हैं।

consult
diagnose
deliver

हर घर में आयुर्वेद लाने के हमारे मिशन के साथ, हम हर दिन हमारे लक्ष्य के लिए एक कदम और करीब आ रहे हैं। हम अपने सभी रोगियों और उनके परिवारों को खुश और संतुष्ट देखना चाहते हैं।

इस लक्ष्य के साथ हमारा संगठन समर्पित है और हम हर किसी की खुशी और प्रत्येक परिवार में खुशहाली वापस लाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़गें। हमेशा आपके शुभकामनाएँ की तलाश में।

डॉक्टर के बारे में

about-doctor-img1

। । सतनाम। ।

मैं वैद्य अश्वनी कुमार, एक आयुर्वेदिक चिकित्सकों के परिवार में पला बढा हूँ। . मैं अपने अध्ययन के दौरान शुरु से ही परिवार के साथ आयुर्वेदिक चिकित्सा के क्षेत्र में हमेशा से अभ्यास करता आया हूँ।

मेरे पिताजी वैद्य शिव शंकर प्रसाद भी एक काफी अच्छे आयुर्वेदिक चिकित्सक हैं। मेरे दादा वैद्य भागवत प्रसाद काफी अच्छे आयुर्वेदिक चिकित्सक थे। जो कि अपने समय मे देश-विदेश के सैकड़ों रोगियों को उनके रोग से छुटकारा दिला चुके हैं। आज भी उनके द्वारा देश विदेश के सैकड़ों रोगियों का विवरण हमारे पास मौजुद हैं।

सबसे बड़ी खासियत यह है कि हम अपने रोगियों के इलाज या सलाह के दौरान औषधि मे किसी भी प्रकार का केमिकल प्रयोग नहीं करते हैं। यदि आपातकाल मे एकाद्य रोगी को आवश्यकता पड़ जाती है तो उसे हम आवश्यक निर्देश दे देते हैं।

मैं अपने प्रैक्टिस के दौरान आयुर्वेद के जड़ी बुटियों एवं भस्मों के माध्यम से हजारो हजार हताश रोगियों को उनके रोग से छुटकारा दिला चुका हूँ। जिसका काफी विवरण प्रशंसा पत्र हमारे पास मौजुद हैं। आज भी हम आयुर्वेद के प्रति सदा समर्पित हैं। हम अपने सलाहनुसार या सिर्फ अपने रोगियों के इलाज के दौरान हजारों हजार रोगियों को रोग मुक्त करने का पुरा अनुभव हैं। फिर भी हम नये अनुसंधान के प्रति सदा प्रयासरत रहते हैं। जिसे हम आगे जाकर अपने कार्य क्षेत्र मे शत प्रतिशत सफलता प्राप्त कर सके।

हमारे यहां रोगियों कि उम्र और रोग कि प्रकृति, अवस्था एवं आवश्यकता को ध्यानपूर्वक सोच समझकर सलाह दिया जाता हैं। रोग एक होने के बावजूद भी रोग कि प्रकृति, अवस्था अलग-अलग हो सकती हैं। जिससे हर रोगी का औषधि या सेवन करने का तरीका अलग-अलग हो सकता हैं।

आज के आधुनिक युग में तत्काल लाभ के चक्कर में इलाज के लिए इधर उधर भटकते रहते हैं और झुठे प्रचार प्रसार के झांसे में आ जाते हैं । जिससे से आपका सही तरीके से रोग ठीक नहीं हो पाता हैं और आपका रोग और भी जटिल हो जाता हैं जिससे ठीक होने में परेशानी बढ जाती हैं।

Read more

चिकित्सक से पूछें